Sunday, October 2, 2022

Contact Us For Advertisement please call at :
+91-97796-00900

कोरोना के साथ अब लोगों को ब्लैक फंगस का डर

कोरोना के साथ अब लोगों को ब्लैक फंगस का डरगर्मी के मौसम में आंखों में एलर्जी होने पर रोजाना 10 से 15 लोग सिविल में पहुंच रहे जांच करवाने 
लोगों को समझा रहे डाक्टर्स, सिर्फ आंखे लाल होना ब्लैक फंगस नहीं, बिना वजह पैनिक न हो, एलर्जी को न समझे फंगस
डाक्टरों का कहना जिन लोगों को डायबिटीज और वो कोरोना से संक्रमित हो गए है, उन पर ब्लैक फंगस के अटैक का खतरा ज्यादा

शिमला, 30 मई( वीना पाठक):  
जिले में कोरोना के साथ अब लोगों को ब्लैक फंगस वायरस का डर भी सताने लगा है। हालांकि सेहत विभाग के अधिकारियों का दावा है कि जिला पठानकोट में ब्लैक फंगस का अभी तक कोई केस सामने नहीं आया है। वहीं दिन प्रतिदिन लगातार बढ़ रही गर्मी के चलते मौसम में हुए बदलाव को लेकर आंखों में एलर्जी होने पर रोजाना 10 से 15 लोग सिविल में आंखों की जांच करवाने पहुंच रहे है। हालांकि डाक्टर, लोगों को बिना वजह परेशान न होने की सलाह दे रहे है। डाक्टरों की माने तो पिछले एक सप्ताह से रोजाना 10 से 15 लोग आंखों में एलर्जी होने पर जांच कराने पहुंच रहे है। जबकि किसी में भी ब्लैक फंगस के लक्ष्ण नहीं मिले है।
बिना वजह लोग पैनिक न हो, लक्ष्यन दिखने पर ही डाक्टर के पास जाए- डाक्टर रमेश डोगरा
सिविल अस्पताल के आंखों के स्पेशलिस्ट डा.रोमेश डोगरा का कहना है कि लोग बिना वजह पैनिक न हो। सोशल साइट पर वायरल हो रही वीडियो और इंटरनेट पर लक्ष्ण सर्च कर पैनिक हो रहे है। जबकि लोगों को इंटरनेट पर लक्ष्ण सर्च करने की बजाए संबंधित चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए, ताकि स्थिति को स्पष्ट किया जा सके। उधर डाक्टरों का कहना है कि जिन लोगों को डायबिटीज है और वो कोरोना से संक्रमित हो गए है, उन पर ब्लैक फंगस के अटैक का खतरा ज्यादा रहता है।
एलर्जी को न समझे फंगस
आंखों के स्पेशलिस्ट डाक्टर रोमेश डोगरा ने बताया कि ब्लैक फंगस इम्युन सिस्टम कमजोर वाले शुगर लेवल ज्यादा, कैंसर किडनी एवं लीवर संबंधी मरीजों पर ज्यादा हमला करता है। इसके लक्ष्ण आंखों में सूजन, चेहरे पर निशान, चमड़ी का काला हो जाना, दांतो में दर्द और जबड़े का हिलना आदि है। सामान्य तौर पर यह बीमारी हर किसी को नहीं होती। इसलिए बहुत ज्यादा पैनिक करने की जरूरत नहीं है। आंखों में ज्यादा जलन हो तो पलकों को कुछ समय के लिए बंद कर लें। सिर्फ आंखों के लाल होने का मतलब ब्लैक फंगस नहीं है।

ब्लैक फंगस के शुरूआती लक्ष्ण, इनका रखें ध्यान
-चेहरे के किसी भाग में असहनीय दर्द हो सकता है
-चेहरे के किसी भाग में सूजन होना
-आंखों में गहरा लालीपन आना
-देखने में दिक्कत
-सांस लेने में परेशानी
-नाक बंद होना, नाक से दुर्गंध आना, नाका से गाढ़ा लाल या काला खून आना
 

अपनी इम्युनिटी पावर बढ़ाए
डाक्टरों के अनुसार शरीर की इम्युनिटी पावर बढ़ाए, भोजन में दाल, दूध, अंडा, मौसमी फल, साग व सब्जी का उपयोग करें। बिना डाक्टर की सलाह के एंटी बायोटिक दवा का उपयोग न करें। मरीजों को आक्सीजन लगाने के दौरान फ्लो मीटर में डिस्टिल वाटर का उपयोग होना चाहिए। कोरोना पाजिटिव से नैगेटिव होने पर अपने व आसपास सफाई हो, प्रदूषण से बचना चाहिए। सुबह-शाम गर्म पानी से गारगल करें। कपड़े वाले मास्क का एक दिन उपयोग करने के बाद धोकर डाले।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

%d bloggers like this: