Wednesday, October 5, 2022

Contact Us For Advertisement please call at :
+91-97796-00900

जय राम सरकार की हठधर्मिता एवं बल्ह कि उपजाऊ जमीन में एयरपोर्ट का एकतरफा फैसला लेकर कोडियों के भाव जमीन लेकर अदानी को सोंपना चाहती हे : बल्ह बचाओ किसान संघर्ष समिति

जय राम सरकार की हठधर्मिता एवं बल्ह कि उपजाऊ जमीन में एयरपोर्ट का एकतरफा फैसला लेकर कोडियों के भाव जमीन लेकर अदानी को सोंपना चाहती हे : बल्ह बचाओ किसान संघर्ष समिति
ऊना, विवेक अग्रवाल
बल्ह बचाओ किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष, जोगिन्दर वालिया ने कहा कि पिछले कल शिमला में मंडी हवाई अड्डा विकास की बैठक में एक नया संसोधित 3150 मीटर लम्बा मास्टर प्लान जिसके अनुसार अब हवाई पट्टी का रनवे 1050 मीटर उत्तर की तरफ (सिह्न-चंडयाल) बढ़ा दिया हे और अब बल्ह को बर्बाद करने के लिए केंद्र सरकार से बितपोषण हेतु गुहार लगाएगी जो कदापि पूरा नहीं हो पायेगा (ज़ेबा नी धेला, चड़ना रेला) कयोंकि केंद्र सरकार पहले से ही अपने सार्वजनिक उपक्रमो को निजी हाथो में बेच रही हे, ज्यादातर विमान व एयरपोर्ट अड्डे पहले ही अदानी को बेच चुकी हे और राज्य सरकार मार्च 2022 तक धर्मशाला एयरपोर्ट भी निजी हाथो को देने जा रही, संघर्ष समिति को अंदेशा हे कि जयराम सरकार कि मिलीभगत से बल्ह कि उपजाऊ जमीन में एयरपोर्ट का एकतरफा फैसला लेकर जल्दी से कोडियों के भाव जमीन लेकर इन्वेस्टर मीट के बहाने अदानी को सोंपना चाहती हे I हम पूछना चाहते है बल्ह की उपजाऊ भूमि में ही हवाई अड्डे का निर्माण क्यों किया जा रहा है, और क्या हवाई अड्डा गेर उपजाऊ जमीन पर नहीं बनाया जा सकता और आजतक केंद्र सरकार ने हवाई अड्डे गेर उपजाऊ जमीन पर बनाये हे I
संघर्ष समिति के सचिब नन्द लाल वर्मा ने हेरानी जताते हुए कहा कि मंडी लोकसभा चुनाव की हार का बदला बल्ह के किसानो से लिया जा रहा हे अब लिडार सुर्वे के माध्यम से बल्ह को पूरी तरह से बर्बाद करने एकतरफा चल रहे हैं, अपने सपने को पूरा करने कि जिद पर अड़े हुए है जिसे कदापि सहन नहीं किया जाएगा। बल्ह में प्रस्तावित हवाई अड्डा क्षेत्र के किसानों के लगभग 2500 स्थानीय परिवार एवं 12000 की आबादी को प्रस्तावित हवाई अड्डे की वजह से भूमिहीन तथा विस्थापित करने पर तुले हुए है और बल्ह क्षेत्र का नामोनिशान मिटाने पर अड़े हुए हें, बल्ह कि जनता जो नकदी फसले उगा कर जीवन चला रही है उन्हें बेरोजगारी का दंश झेलना पड़ेगा पूरी तरह से तबाह हो जायेंगे । आने बाले दिनों में बल्ह के सभी गावों में जनसंपर्क अभियान चलाया जाएगा और सरकार के खिलाफ अन्य किसान संघठनो के साथ मिलकर तीखे संघर्ष की रूपरेखा तैयार की जाएगी सरकार से मांग की जाती है कि समय रहते प्रस्तावित हवाई अड्डे को किसी दूसरी जगह बनाया जाए और इस क्षेत्र की उपजाऊ भूमि को हर हाल में बताया जाए और मुख्यमंत्री अगर अपनी हठधर्मिता नहीं छोड़ते हैं तो जो ट्रेलर अभी चुनाव में मंडी की जनता ने दिखाया हे आने वाले 2022 के चुनाव में इससे भी ज्यादा हार का खामियाजा भुगतना पड़ेगा। न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी ।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

%d bloggers like this: