Thursday, October 6, 2022

Contact Us For Advertisement please call at :
+91-97796-00900

EXCLUSIVE: कोविड में लोक कलाकारों की स्थिति से आहत हुए रोहिताश, शिमला पहुंचे “भाभीजी घर पर है” धारावाहिक के मुख्य कलाकार” तिवारी जी”पढ़े प्रथम न्यूज़ से खास बातचीत

एक्सक्लूसिव : कोविड में लोक कलाकारों की स्थिति से आहत हुए रोहिताश,
शिमला पहुंचे “भाभीजी घर पर है” धारावाहिक के मुख्य कलाकार” तिवारी जी” पढ़े प्रथम न्यूज़ से खास बातचीत

शिमला, 7 नवंबर( वीना पाठक):    कोविड में लोक कलाकारों की आर्थिक परिस्थिति को देखकर बालीवुड के नामी कलाकार रोहिताश गौड काफी आहत है। रोहिताश आज शिमला आएं है। प्रथम न्यूज से खास बातचीत में रोहिताश ने लोक कलाकारों को लेकर अपनी मनोस्थिति जाहिर की। भाभीजी घर पर है धारावाहिक के मुख्य कलाकार की भूमिका निभाने वाले अभिनेता का कहना है कि ये स्थिति हिमाचल की ही नहीं बल्कि देश के सभी इलाकों की है, जहां पर लोक कलाकारों की आर्थिक स्थिति पर संकट मंडरा गया।

“भाभीजी घर पर है” नामक धारावाहिक में तिवारी जी नाम के किरदार को निभा रहे रोहिताश गौड़ का कहना है कि इस समय सभी के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए वह प्रयासरत है जिसमें ये धारावाहिक भी अपनी  विशेष भूमिका निभा रहा है लेकिन ऐसी परिस्थिति में अब विशेषत लोक कलाकारों की स्थिति दयनीय हो गई है। उनका कहना है कि हमारी संस्कृति का आधार हमारे लोक कलाकार हैं । अब कोविड काल में कार्यक्रम बहुत ही कम संख्या में आयोजित हो रहे हैं , और उन्हें अब आयोजित छिटपुट कार्यक्रम में मेहनताना भी नहीं के बराबर मिल रहा है। उन्हें अपना परिवार चलाना मुश्किल हो गया है। इसके लिए प्रदेश सरकार को भी सोचना चाहिए कि इस वर्ग के लिए कोई खास नीति बनाई जाए या इस समय उन्हें आर्थिक लाभ देने के लिए उनकी मदद की जा सके।
रोहिताश ने आज कालीबाड़ी मंदिर के दर्शन किए जिसके बाद वह शिमला में बने अपने घर जाएंगे और उसके बाद वह वापस मुंबई निकल जाएंगे। रोहिताश ने असर न्यूज़ से अपने दिल बातें साझा करते हुए यह भी कहा कि शिमला उन्हें बहुत ही खूबसूरत शहर लगता है । यहां का पर्यावरण ऐसा ही रहे इसके लिए शिमला के लोग ही नहीं बल्कि पर्यटकों को भी इसका विशेष ध्यान रखना चाहिए।

Previous articlee-paper
Next articleE-paper

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

%d bloggers like this: