Monday, September 26, 2022

Contact Us For Advertisement please call at :
+91-97796-00900

वैक्सीन एक रेट तीन क्यों? मोदी सरकार बताए कौन दे रहा है मुनाफाखोरी को बढ़ावा- दीपक शर्मा

वैक्सीन एक रेट तीन क्यों? मोदी सरकार बताए कौन दे रहा है मुनाफाखोरी को बढ़ावा-दीपक शर्मा
कांग्रेस प्रवक्ता बोले-देश में हर व्यक्ति के लिए वैक्सीन ज़रूरी अतः फ्री मिले
वीना पाठक, शिमला( हिमाचल प्रदेश) 24 अप्रैल
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता दीपक शर्मा ने कोविशील्ड वैक्सीन में निर्माताओं द्वारा दुगना मूल्य करने पर आपत्ति जताई है।असज जारी एक प्रैस विज्ञप्ति में कांग्रेस नेता ने इस मामले पर केंद्र सरकार पर मुनाफाखोरी को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।उन्होंने कहा कि कोविशील्ड बनाने वाली कम्पनी ने वैक्सीन की कीमतों में दोगुना बढ़ौतरी कर दी है।केंद्र सरकार को यह वैक्सीन150 रुपए में दी जा रही है लेकिन राज्य सरकारों को एक डोज़ के लिए 400 रुपए और निजी अस्पतालों को 600 रूपए खर्च करने होंगे।अभी तक यह वैक्सीन फ्री में लगती थी जिसकी सप्लाई केंद्र सरकार राज्यों को फ्री में कर रही थी।निजी अस्पतालों इसके लिए 250 रुपए बसूल करते थे जबकि उन्हें यह 150 रुपए में दी जाती थी।कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि अब क्योंकि एक मई से 18 साल से ऊपर के लोगों को भी वैक्सीन लगेगी अतः इसके रेट बढाना मुनाफ़ाखोरी को दर्शाता है।उन्होंने कहा कि अगर सरकार चाहती है कि देश की पूरी आवादी को वैक्सीन लगे तो राज्य और निजी अस्पतालों के लिए भी वही कीमत होनी चाहिए जो केंद्र सरकार के लिए है।राज्यों से 400 और निजी अस्पतालों से 600 रुपए क्यों लिए जा रहे हैं।कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि निजी अस्पताल अबतक एक डोज़250 रुपए में लगा रहे हैं लेकिन अगर निजी अस्पतालों को यह 600 रुपए में मिलेगी तो आमजन को यह 750 रुपए में मिलेगी।दीपक शर्मा ने कहा कि जबतक 100 प्रतिशत वैक्सीनेशन नहीं हो जाती तबतक इसकी कीमतें पूरे देश में एकसमान होनी चाहिए।कांग्रेस नेता ने कहा कि जब देश ज़िंदगी और मौत के बीच फंसा हो और इससे बाहर निकलने का एकमात्र रास्ता वैक्सीन ही हो तो ऐसे में सरकार की प्राथमिकता लोगों की जान बचाना होनी चाहिए न कि मुनाफ़ाखोरी को बढ़ावा देना।प्रत्येक नागरिक को वैक्सीन मिले सरकार का यही कर्तव्य होना चाहिए।कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि एक वैक्सीन-एक कीमत की नीति पर सरकार को आगे आ कर काम करना चाहिए।वरना यही सन्देश जा रहा है कि सरकार वैक्सीन मामले में भी वैक्सीन निर्माताओं को लाभ देने के लिए जनता का खून चूस रही है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

%d bloggers like this: